Seo-(Search Engine Optimization)

SEO- क्या है,

SEO- क्या है,

Seo क्या है Search Engine Optimization है जिसे हम अपनी वेबसाइट को सर्च इंजन में सबसे ऊपर लाने के लिए अपनी वेबसाइट का ऑप्टिमाइजेशन करते हैं यानी की वेबसाइट पर हर एक चीज सर्च इंजन के हिसाब से डालते हैं जिस तरह से कि गूगल हमारी साइट पर आए और हमारी वेबसाइट पर कोई आर्टिकल एयरपोर्ट हो उसे वह आसानी से पढ़ सके उसे कोई दिक्कत नहीं आए ऐसी ऐसी वो कहते हैं ऐसी योर वेबसाइट का भी होता है यूट्यूब वीडियो का भी होता है ब्लॉक का बीएचयू होता है जो भी चीज हम सोशल मीडिया पर फोटो वीडियो रील शेयर करते हैं उनका भी ऐसी होता है ऐसी ओ का मतलब होता है कि उस पार्टी कूलर ऐप्स या वेबसाइट के हिसाब से हम अपने कंटेंट को डालते हैं या फिर अपनी वीडियो बनाते हैं जो कि उसे पढ़ने में आसानी हो और जो उसकी पॉलिसी के अंदर हो उसे हम ऐसी हो कहते हैं 

If You Read In English Click Here

Search Engine बहुत सारे हैं जिनमें Google सबसे ज्यादा इस्तेमाल किया जाता है

Parts of Seo -Seo के प्रकार

 Seo बहुत सारे पार्ट होते हैं कई सारे प्रकार होते हैं जिनमें से कि हम कुछ प्रकार के बारे में यहां पर जानते हैं

  1. Local seo
  2. On page Seo
  3. Off Page Seo
  4. Research Tools

Local Seo

Local seo

Local Seo लोकल एस सी ओ अगर आप कोई बिजनेस करते हैं और उसके रिगार्डिंग अपनी वेबसाइट बनाते हैं या फिर आपका कोई ऐसा प्रोडक्ट है या फिर कोई ऐसी वेबसाइट है जहां पर कि लोग आकर विजिट करें लोग पहुंचे और वहां से उसे ले या फिर उसके बारे में जानकारी हासिल करें तो उसके लिए आपको उसका लोकल Seo करना पड़ता है लोकल Seo करने के लिए आपको गूगल मैप पर उसको लिस्ट करना पड़ता है वह जैसे कि गूगल लिस्टिंग कहते हैं और बहुत से ऐसे प्लेटफार्म में जहां पर कि आपको लिस्ट करना पड़ता है जैसे कि example के तौर पर अगर अगर आपको लोकल बिजनेस है तो आप उसे ओ एल एक्स या फिर इंडियामार्ट टू रजिस्टर कर सकते हैं ऐसे भी हम लोग कल ऐसी हो कहते हैं

Google seo

Google seo गूगल एससीओ के अंदर हम अपनी वेबसाइट का ऑप्टिमाइजेशन इस तरह करते हैं जिस तरह की गूगल का गूगल का क्रॉउन या फिर हम कई लोग इसे बोर्ड भी कहते हैं और कई लोग इसे करावल भी कहते हैं तो कराओ लिया बट हमारी जब वेबसाइट पर आए तो वह सारे कांटेक्ट को पढ़ सके और अपने और अपने हिसाब से अपनी लिस्ट में उसे इंडेक्स कर सके स्टोर कर सके ताकि कोई भी व्यक्ति या कोई पर्सन गूगल पर आकर हमारी वेबसाइट या ब्लॉक के रिगार्डिंग कोई भी चीज को सर्च करता है तो वह उसे गूगल सबसे पहले हमारी वेबसाइट या ब्लॉग का लिंक शेयर करें और हमारी वेबसाइट को सबसे ऊपर देखा है तो यह गूगल Seo-Search Engine optimization के अंदर आता है और इसी तरह से गूगल का सीओ किया जाता है इससे हमारी वेबसाइट सर्च इंजन में रंग करती है अगर गूगल का एस यू आप प्रॉपर करते हैं तो आपकी वेबसाइट गूगल सर्च इंजन में सबसे ऊपर आती है यह सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन भी कहा जाता है ऐसे करने के लिए आपको कई तरह के टोल आते हैं जिससे कि हम नीचे आपको बताने वाले हैं बहुत से फ्री टूल्स हैं और बहुत से पेट भी टूल्स है कुछ फ्री टूल्स लिमिटेड चीजों को दिखाते हैं और पेट टूल्स ज्यादा चीजों को दिखाते हैं कुछ पल ऐसे होते हैं जिनमें कुछ टाइम के लिए आप उसे फ्री में यूज कर सकते हैं अगर आपको उसकी सर्विस अच्छी लगी तो आप उसे पैसे देकर खरीद भी सकते हैं 

On-Page Seo

On-page SEO

On-page SEO  जब हम अपनी वेबसाइट पर  हम अपना कोई आर्टिकल या कांटेक्ट लिखते हैं या फिर अपनी वेबसाइट बनाते हैं तो उसेका भी Seo- Search Engine Optimization   करते हैं उसे हम उनके जैसी हो कहते हैं ऑप्टिमाइज करने के लिए जिस तरह से वर्डप्रेस में बहुत सारे प्लगिंस और टू लाते हैं जैसे कि एग्जांपल के तौर पर आप ले लीजिए Yoast Seo आता है और एक Rank Math Pro आता है उनके हिसाब से जब आप आर्टिकल लिखते हैं तो वहां पर आपको एरर दिखा रहा है कहीं पर जो चीज छूट जाती है वह उसको इंडिकेट करता है और आपको शो करता है आपने कितनी इंटरनल लिंक्स दी है और कितनी आउट लिंक भी है वह भी ऐसी हो के लिए जरूरी होता है उन पर जेसीओ में लिंक शेयर करना इमेज डालना इमेज का ऑल टेक्स्ट लिखना और अपना आर्टिकल सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन के लिए रेडी करना यानी कि ऐसा कंटेंट लिखना जिसकी गूगल पर सर्च रैंकिंग ज्यादा हो,

Google Suggest 

 आप जब भि कोइ अर्टिकल लिखे तो उस Topic या फ़िर उस keyword को Google पर सर्च कर ले Google आपको उस्से रेलतेद Keywords दिखयेगा इसे हम  Googlr Suggest कहते हैं

1.url- आपका यूआरएल शॉट और लॉन्ग नहीं हो ज्यादा शॉर्ट नहीं हो और ज्यादा लोग भी नहीं हो आपका यूआरएल आपके आर्टिकल या ब्लॉक की हेडिंग से मैच करना चाहिए और उस हेडिंग में यह क्लियर होना चाहिए कि आप दूसरे को क्या जानकारी दे रहे हो

2.Title tag- टाइटल और टैक्स भी लगाने जरूरी होते हैं क्योंकि यह भी जब कोई गूगल पर आकर हमारे आर्टिकल के टैग या टाइटल के रिलेटेड कोई सर्च करता है तो गूगल उसको हमारा आर्टिकल रिकमेंड एट करता है और यह भी सर्च मैं रंग करने के लिए बहुत जरूरी होता है और पर इस तरह से यह देखा जाता है कि हमने कितना ऑप्टिमाइज कंटेंट लिखा है और टेक्स्ट टाइटल कितने रिसर्च करके डाले हैं अगर रिसर्च करके टाइटल और टैग लगाएंगे तो हमारे आर्टिकल के रंग करने के चांस ज्यादा हो जाते हैं

3.Meta description- मेटा डिस्क्रिप्शन इसमें हमें लोगों को दो से तीन लाइन में यह बताना होता है कि हमारे आर्टिकल के अंदर क्या जानकारी है और उन्होंने क्या जानकारी देना चाहते हैं इससे उनका क्या फायदा होगा और अगर वह यहां पर नहीं आएंगे तो उनका क्या नुकसान होगा यह हम मैटर डिस्क्रिप्शन में लोगों को अट्रैक्ट करते हैं अपने आर्टिकल के ऊपर आने के लिए और उनका हम कुछ ध्यान आकर्षित करते हैं और मेटा डिस्क्रिप्शन आपके आर्टिकल के ही ऊपर बना होता है कि आपने अपने आर्टिकल में क्या जानकारी दी है उसी हिसाब से आप मैटर डिस्क्रिप्शन डालते हैं

4.Content- कांटेक्ट आपका ऑप्टिमाइजेशन होना चाहिए अगर आप किसी बारे में भी कांटेक्ट लिख रहे हैं तो उसके बारे में आपको पूरी जानकारी होनी चाहिए आपको उसके बारे में रिसर्च करनी पड़ती है और रिसर्च करने के बाद उस जानकारी को आप कई जगह से घटाकर के लोगों तक पहुंचा रहे हो वह कांटेक्ट ऑप्टिमाइजेशन टन होता है और ऐसे कांटेक्ट पर लोग ज्यादा आते हैं क्योंकि आप कई सारी जानकारी कई जगहों से इकट्ठे करके एक जगह अपने आर्टिकल में उन लोगों को देते हैं उनका टाइम बसता है और वह आपके यहां पर आकर इस आर्टिकल को पढ़ते हैं और यह किसी का कॉपी नहीं होना चाहिए जैसे कि बहुत से लोग करते हैं किसी का आर्टिकल लिया वहां से कॉपी करके और वहां अपने यहां पर पोस्ट कर दिया तो ऐसा आर्टिकल गूगल कभी अशरफ नहीं करेगा

5,Heading & Subheadings- हेडिंग और सब हेडिंग्स भी हमारे आर्टिकल के रंग करने में इंपोर्टेंट पार्ट होती है क्योंकि गूगल का क्राउलर या बोर्ड जब हमारे आर्टिकल पर आता है और वह हमारे आर्टिकल को स्टडी करता है तो वह पूरा आर्टिकल नहीं पड़ता है आपकी हेडिंग हो सब हेडिंग्स को स्टडी करता है और उन्हीं के ऊपर आकर वह आपके आर्टिकल को अपनी लाइब्रेरी में इंडेक्स करता है तो यह भी हमारे आर्टिकल में रंग करने का एक महत्वपूर्ण पार्ट होती है

6.Image Ait Text- इमेज का ऑल टेक्स्ट आप की हेडिंग के रिकॉर्डिंग डालना चाहिए क्योंकि जब गूगल पर कोई इमेज सर्च करता है तो गूगल उसके ऑल टैक्स के हिसाब से और टैक्स के रिलेटेड उसको इमेज शो करता है अगर आप अपने आर्टिकल के इमेज का ऑल टैक्स डालेंगे अगर कोई गूगल पर आकर उस बारे में इमेज सर्च करेगा तब भी गूगल आपके आर्टिकल को उसे रिकमेंड करेगा और उसको शो कर आएगा

7.Internal & External Links- इंटरनल और एक्सटर्नल लिंक भी आपके आर्टिकल को बैंक खाने में बहुत ज्यादा लाभकारी होती है क्योंकि इनके जरिए जब गूगल का क्राउलर अवार्ड हमारी वेबसाइट पर आता है और हमारे आर्टिकल को स्टडी करता है तो उसे इंटरनल या एक्सटर्नल लिंक मिलते हैं तो उससे आर्टिकल का पॉजिटिव इफेक्ट पड़ता है और वह गूगल यह समझ जाता है कि इस कांटेक्ट में कुछ अच्छा है जो कि इसने लोगों को बताने की कोशिश की है और अगर किसी भी बारे में और कोई जानकारी कहीं और है तो यह वहां को रेफर कर रहा है तो इससे भी आपका आर्टिकल रैंक करने के चांस ज्यादा रहते हैं

मैं आपको आर्टिकल लिखने के बारे में रिसर्च करने के लिए दो टूल्स के बारे में बताता हूं जो कि आप यूज कर सकते हैं और उनसे रिसर्च करके आप अपना आर्टिकल लिख सकते हैं

Read More

1.Semrush

Semrush यह एक बहुत ही अच्छा टूल है लेकिन यह टूल आपको पैसे से खरीदना पड़ता है और इसका कुछ ट्रायल आपको फ्री मिलता है जैसे कि आप लोग इन करेंगे तो 7 दिन का ट्रायल आपको फ्री मिलेगा आप इसे 7 दिन तक अपनी आईडी बनाकर अपनी ईमेल आईडी से लॉगिन करके इसे यूज कर सकते हैं और इसका इस्तेमाल कर सकते हैं अगर आपको अच्छा लगा तो इसे खरीद भी सकते हैं और अगर नहीं अच्छा लगा तो आप बाद में से कैंसिल भी कर सकते हैं इसके लिए आपको एसीएम रसके डैशबोर्ड पर जाकर कैंसिल करना पड़ेगा और कैंसिल करने के बाद यह कैंसिल हो जाएगा अगर आप कैंसिल नहीं करेंगे तो यह आपकी अकाउंट से पैसा ऑटोमेटिक काट लेता है और आपका जो मंथली या फिर अपने अली सिलेक्ट किया है वह पेमेंट आपके अकाउंट से कट जाती है यह एक बहुत ही अच्छा टोला जो आप अगर किसी वेबसाइट पर जाते हैं तो वहां पर उसमें कितने कीवर्ड है कितने टैक्स लगे हुए हैं उसकी रैंकिंग कितनी है उस वेबसाइट की कितनी रैंकिंग है वह सारा कुछ आपको दिखाता है अगर आपको ऐसी अमरस का ट्राई लेना है तो मैं यहां पर उसका लिंक दे देता हूं आप यहां पर क्लिक करके ऐसी अमृत को ट्राई कर सकते हैं यह मैंने यूज किया है बहुत अच्छा टूल है और सर्च इंजन में आपको रैंकिंग करने में बहुत मदद करता है

2.Ahrefs

Ahrefs यह भी एक टूल्स है जिससे कि हम एसीओ के लिए इस्तेमाल कर सकते हैं और इसका कुछ हिस्सा फ्री होता है और कुछ ऐसा पेड़ होता है या नहीं कि बहुत कुछ फ्री में भी आप यहां से सर्च कर सकते और अगर आपको ज्यादा डीप में जाना है तो आपको इसके लिए भी पैसे देने पड़ेंगे लेकिन आपको कुछ लिमिट इसकी यूज करने के लिए फ्री में मिलती है जो कि आप यूज कर सकते हैं और उसके इस्तेमाल से भी आप बहुत सारा ऐसी हो का रिसर्च कर सकते हैं और इसमें कीवर्ड सर्च करने के लिए भी एक ऑप्शन होता है जो कि हम कीवर्ड रिसर्च भी कर सकते हैं कि वह डिस्चार्ज अपनी वेबसाइट के लिए यूट्यूब चैनल के लिए किसी के लिए भी हम यहां पर कीवर्ड सर्च कर सकते हैं तो यह भी एक बहुत अच्छा टूल है जो हमें ऐसी हो में मदद करता है आप इसे भी इस्तेमाल करके देख सकते हैं

Ads.Google.com

Ads.Google.com

Ads.Google.com यह गूगल एड्स की वेबसाइट है जहां पर कि हम एड्स रन करते हैं यहां पर जाकर आप अपना अकाउंट क्रिएट करके और आप फ्री में अपने कीवर्ड को सर्च कर सकते हैं और उस पर देख सकते हैं कि इसकी रैंकिंग कितनी है कितना सर्च किया जाता है और इसका बीड कितना है यानी कि कितना कंपटीशन है और इस पर पेपर के लिए कितना मिल रहा है कि एड्स के लिए वह सारा कुछ आप चेक कर सकते हैं तो आप अगर अपना कोई आर्टिकल लिखें तो सबसे पहले एड्स डॉट Google.com पर जाएं और वहां पर जाकर अपने कीबोर्ड के बारे में रिसर्च करें आप बहुत से कीवर्ड ले सकते हैं और उनकी बर्ड्स को सर्च करके जो आपको टॉप रिलेटेड कीवर्ड लगे हैं जिसकी सर्च रैंकिंग सबसे ज्यादा हो और कंपटीशन सबसे लो हो आप उनकी वर्ड को सिलेक्ट करके एक आर्टिकल लिखें और आर्टिकल ऑप्टिमाइज लिखें अपनी खुद की नॉलेज के हिसाब से लेकिन किसी का कॉपी ना करें अगर किसी का कॉपी करेंगे तो हमें कॉपीराइट केशु आ सकता है और अगर खुद का लिखेंगे तो हमें कॉपीराइट कछु नहीं आएगा और हमारा आर्टिकल सर्च इंजन में रहकर जाएगा और हमारी वेबसाइट भी सर्च इंजन में टॉप रैंक करेगी

Off-Page Seo

Local seo

Off-page seo हमें अपनी वेबसाइट के बाहर जाकर करना पड़ता है अपनी वेबसाइट का एसीईओ करने के लिए सर्च इंजन में सबसे ऊपर लाने के लिए हमें अपनी वेबसाइट या फिर अपने आर्टिकल का ओके जैसी भी करना होता है ओके जैसी हो जैसे कि अगर हमारी फ्रेंड रिलेटिव की कोई वेबसाइट है आप वहां पर उनसे कहिए कि हमें अपने आर्टिकल में लिंक दें जिससे कि बैकलिंक बोलते हैं ब्लैक लिंग के लिए करें और जैसे कि आप सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म फेसबुक इंस्टाग्राम यूट्यूब लिंकडइन टूटे यहां पर प्रोफाइल बनाते हैं और भी बहुत सारी वेबसाइट से आप गूगल पर सर्च मारेंगे तो वहां पर आपको मिल जाएगी वहां पर जाकर आप अपनी वेबसाइट का यूआरएल पेस्ट कर दें जो कि एक बैकलिंक्स का काम करती है और वहां पर लोग जाएंगे आपकी प्रोफाइल पर विजिट करेंगे और प्रोफाइल से आपकी वेबसाइट पर आएंगे तो वह भी एक ओके जी ओके लाता है और उससे भी हमारी वेबसाइट आर्टिकल सर्च इंजन में रंग करने में कामयाब होता है और उसे भी हमें कुछ कामयाबी मिलती है सर्च इंजन के टॉप में रंग करने के लिए और आप बहुत सी ऐसी वेबसाइट है जहां पर कि जाकर आप कमेंट कर सकते हैं और कमेंट में उनके लिए कुछ अच्छा कमेंट करें और अपनी वेबसाइट का यूआरएल वहां पर पेस्ट कर दें कुछ वेबसाइट ऐसी होती हैं जो फॉलो लिंक क्रिएट करते हैं और कुछ बॉक्साइट फॉलो लिंक क्रिएट करती है तो वहां से भी आपको बैकलिंक मिल जाती है और यह भी सर्च इंजन में आपको रंग करने में मदद करती है इससे भी हमारी वेबसाइट सर्च इंजन के टॉप पेज पर आने के चांस ज्यादा रहते हैं यह भी हमें अपनी वेबसाइट के लिए बहुत जरूरी होता है कि अपनी वेबसाइट का उपयोग करें जो कि हमें अपनी वेबसाइट से बाहर जाकर करना पड़ता है

Seo For Beginners

Seo for beginners

Seo for beginners अगर आप नए हैं आप भी गिना रहे हैं तो आपके लिए एस यू करने के लिए सबसे पहले आपको यह चाहिए कि आप अगर जिस Niche पर ब्लॉग लिखना चाहते हैं उसे  गूगल में सर्च कीजिए और गूगल में सर्च करने के बाद आप जब गूगल में अपना कीवर्ड डालते हैं तो आपको गूगल उस से रिलेटेड कुछ कीवर्ड सजेस्ट करता है आप उनकी वर्ड को भी एक डायरी में नोट पर ऐड कर लीजिए और सर्च करने के बाद जब हमारे सामने गूगल का पेज ओपन होता है तो आप उसे स्क्रोल डाउन करेंगे तो उसमें भी कई जगह लिखा होता है पीपल अलसो आस्क यानी उस से रिलेटेड जो लोगों ने पूछा है वह भी गूगल हमें सजेस्ट करता है और उन्हें भी आप नोट डाउन कीजिए और उसके बाद जिसने इस पर आप आर्टिकल लिखना चाहते हैं उसके रिलेटेड आर्टिकल जिस वेबसाइट पर भी हो उन चार पांच वेबसाइट को आप विजिट कीजिए उन आर्टिकल ओं को आप पढ़िए उन्होंने किस तरह से आर्टिकल लिखे हैं और उनमें क्या हेडिंग दी है किस तरह के फोटो है और उनका कांटेक्ट किस तरह का है उनको आप स्टडी कीजिए और उसके बाद आपके जबकि वर्ल्ड सिलेक्ट हो जाएं तो उन्हें आप गूगल कीवर्ड प्लानर पर जाकर भी सर्च कर सकते हैं या फिर आपको जो मैंने ऊपर टूल्स बताए हैं आप वहां जाकर भी सर्च कर सकते हैं और सर्च करने के बाद आप उनके बारे में एक वेबसाइट है आंसर द पब्लिक डॉट कॉम वहां पर जाकर उस उनकी वर्ड्स रिलेटेड सर्च कर सकते हैं कि लोग उनसे रिलेटेड क्या जानना चाहते हैं और उनकी क्वेरी का है आप वहां जाकर अपने कीवर्ड सिलेक्ट करके एक आर्टिकल लिखिए जो कि ऑप्टिमाइज होना चाहिए और उसकी लेंथ से कम नहीं होनी चाहिए आप ऐसा आर्टिकल लिखेंगे तो आप सर्च इंजन में जल्द ही Rank करना चालू कर देंगे और आपकी वेबसाइट का Seo- Search Engine Optimization भी हो जाएगा और आपकी वेबसाइट सर्च इंजन के रिजल्ट में टॉप 10 टॉप में आना स्टार्ट हो जाएगी

SEO से रिलेटेड आर्टिकल आपको कैसा लगा आप हमें कमेंट में जरूर बताएं और आप ऐसी हो एसीएम यानी सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन और सोशल मीडिया मार्केटिंग और डिजिटल मार्केटिंग के बारे में अगर डिटेल में जानना चाहते हैं और स्टेप बाय स्टेप सीखना चाहते हैं तो आप यहां पर अपनी ईमेल आईडी और फोन नंबर एंटर करके रजिस्टर कर सकते हैं और अगर आपको इसके बारे में वीडियो चाहिए तो नीचे या फिर टॉप में मेरे युटुब चैनल का लिंक दिया हुआ है आप वहां जाकर इन सारी चीजों के बारे में वीडियो में भी देख सकते हैं और आपको मेरी जानकारी कैसी लगी इसके बारे में कमेंट करना ना भूलें

4 thoughts on “Seo-(Search Engine Optimization)”

  1. Pingback: Website Builders: How To Create A Website Without Coding

  2. Pingback: Benefits Of AI-powered Web Designing Tools For Faster And Smarter Design Creation

  3. Pingback: 10 Essential Tools For Web Designers In 2023 - The Ultimate Digital Destination

  4. Pingback: The Benefit Of Elementor Pro And Essential Addons Pro In Web Designing - The Ultimate Digital Destination

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top